नदिया से मुलाकात

lonli

                                                                                                                                                                                                                                         चलते चलते नदिया से हुई हसीं मुलाकात !

आंसू भर आये नैनो में जब सुने जज्बात !!

ना जी भर रुक पाया

न नदिया संग चल पाया

क्यों आरजू से भरी थी मुलाकात

चलते चलते नदिया से हुई हसीं मुलाकात !

आंसू भर आये नैनो में जब सुने जज्बात !!

मोहब्बत ने दर्दे दिल दिया

जब रास्ते ने गुमराह किया

न जी भर देखा ना कोई बात

चलते चलते नदिया से हुई हसीं मुलाकात !

आंसू भर आये नैनो में जब सुने जज्बात !!

जगह तेरे दिल में नहीं फिर भी भाता है

तुम्हारा हर दर्द क्यों दिल दुखाता है

संग हमारे रुक गयी नदिया पूनम की रात

चलते चलते नदिया से हुई हसीं मुलाकात !

आंसू भर आये नैनो में जब सुने जज्बात !!

काश हमें गिरा संभालने का कोई बहाना न हो

हमसे हम संग हम सफर कोई सुहाना न हो

मोहब्बत की भीड़ में मिले सबका साथ

चलते चलते नदिया से हुई हसीं मुलाकात !

आंसू भर आये नैनो में जब सुने जज्बात !!

~ मोहन अलोक

 

Leave a comment