सहमी सी यह झील

 

url

                                                                                                                                                                               सहमी सी यह झील  !
आज निराश क्यों
बेख़ौफ़ राक्षसी
खेल से
आम आदमी निराश क्यों !!
आग भरडके गी
कह दिया हवाओं ने
मुक्त होगी भूमि
सह लिया फिजाओं ने
टूटते सितारे देख
बेबस आकाश क्यों

सहमी सी यह झील !
आज निराश क्यों 
बेख़ौफ़ राक्षसी 
खेल से 
आम आदमी निराश क्यों !!
पशुओं को बेखटक
विचरते देखा
कोमल कलियों को
बेदर्द कटते देखा
सभ्यता की झील का
छोटा सा पलाश तू

सहमी सी यह झील

आज निराश क्यों !

बेख़ौफ़ राक्षसी 
खेल से 
आम आदमी निराश क्यों ~ ~ मोहन अलोक  

Leave a comment