सूर्योदय

sun rise

 

ग्रहों के  परिवर्तन में ही भारत का निर्माण है

सूर्य इस  जगत की आत्मा सूर्य ही इस जगत का प्राण है

 शताब्दियों  की दासता के बाद  अब सूर्योदय होगा

सूर्य ही सबकी आत्मा सूर्य में ही कलयाण है

सूर्य  ही जगत का कर्ता धर्ता सूर्य  ही सबका भाव

सूर्य सागर  सूर्य ही  जीवन संगर्ष की एक नाव

सूर्य  ही श्री राम की माथे की शान है

ग्रहों के  परिवर्तन में ही भारत का निर्माण है

सूर्य इस  जगत की आत्मा सूर्य ही इस जगत का प्राण है

 शताब्दियों  की दासता बाद  सूर्योदय होगा

सूर्य ही सबकी आत्मा सूर्य में ही कलयाण है

सूर्य की किरण की साथ सब दुष्ट का हो विनाश

सूर्य  ऊर्जा  जल!  दे  फर्जी  दुष्ट पुतलों को  काश

 सम्मान  हो  उन सेनानियों  का  जो  अब तक अनजान  है   

ग्रहों के  परिवर्तन में ही भारत का निर्माण है

सूर्य इस  जगत की आत्मा सूर्य ही इस जगत का प्राण है

 शताब्दियों  की दासता बाद  सूर्योदय होगा

सूर्य ही सबकी आत्मा सूर्य में ही कलयाण है~मोहन आलोक  

Leave a comment